मांद में ही मात गये सांसद

Share Button

rtc_sonरांची । राजनीति भावनाओं का खेल है या कार्यकर्ताओं का अंर्तमेल है। इसे रांची के सांसद रामटहल चौधरी सरीखे अनुभवी बेहतर समझते हैं। मोदी सरकार के दो साल को लेकर उनके घर-आंगन ओरमांझी एसएस हाई स्कूल मैदान में विकास पर्व का आयोजन हुआ।

इसमें पूर्व प्रचार के बाबजूद सीएम और प्रदेश अध्यक्ष ताला मरांडी शरीक नहीं हुये। वे क्यों नहीं हुये। अंदरुनी तौर पर क्या कारण रहे, यह अलग बात है। लेकिन कार्यकर्ताओं के बीच इसका अच्छा संदेश नहीं गया।

हालांकि, राजनीतिक विश्लेषक इसे  सांसद के लिये एक सबक मानते हैं। इस बार सांसद बनने के बाद श्री चौधरी ने उन लोगों को अधिक तरजीह दिया, जिनकी गांव-जेवार पर कोई पकड़ नहीं है। जो कभी भाजपा के परोक्ष-अपरोक्ष कार्यकर्ता भी न रहे, उसे सांसद प्रतिनिधि तक बना दिया गया। आम सक्रिय कार्यकर्ताओं की उपेक्षा कर एक विश्वसनीय टीम बनाने में जुट गये। उधर येन केन प्रक्रेरेण अचानक जिला भाजपा ग्रामीण अध्यक्ष बन कर सबको चौंका देने वाले उनके पुत्र रणधीर कुमार चौधरी ने पूरी कर दी।

रणधीर ने जिला भाजपा के ग्रामीण मंडलों पर खुद के विश्वसनीय लोगों बैठाने के प्रयास किये। कहीं-कहीं तो आम चुनाव में विजयी सक्रिय कार्यकर्ताओं की जगह वैसे लोगों को मंडल अध्यक्ष मनोनित कर डाले, जो कभी पार्टी या चुनावी गतिविधियों में शामिल न रहे और न ही उनकी आम जन मानस पर कोई पकड़ रही।

इसका नतीजा सामने है। सक्रिय कार्यकर्ता विकास पर्व के ऐन पूर्व गौण हो गये और मैदान खाली रह गया। अगर स्कूली बच्चे-बच्चियों और माननीयों के साथ आये खासमखास लोगों को भीड़ से अलग कर दिया जाये तो आकड़ा हजार भी पार न होगी।

यह भी पढ़े  राजगीर मेला सैरात भूमि पर स्थाई भवन बना फुटपाथी दुकानदारों को बसायेगें नालंदा सांसद!

वेशक, रांची के सांसद रामटहल चौधरी की उम्र और राजनीति ढलान पर है। वे अपने पुत्र को अपनी विरासत का उतराधिकारी की ईच्छा रखते हैं लेकिन, अब दौर बदल चुका है। अब जाति की नहीं, जमात की बात होती है। खास लोग आम नहीं होते बल्कि आम लोग खास होते हैं। कम से कम राजनीति में संभावना तलाश रहे रणधीर चौधरी को इसे भलि-भांति समझनी चाहिये कि सबका साथ, सबका विकास की रणनीति ही उनके भविष्य के लिये बेहतर होगी। क्योंकि आज का समाज इतना जागरुक अवश्य हो उठा है कि वह राजनीति का विश्लेषण नेताओं से अधिक और अच्छी ढंग से करने की क्षमता रखती है।

Share Button

Related News:

5 लाख की सुपारी लेकर गवाह की हत्या करने कोर्ट परिसर आए 3 शूटर धराए
चलो पाठशाला : नालंदा पुलिस की अनूठी पहल
गांवों में छठ पर्व घाटों व रास्तों की सफाई में जुटे युवा
‘जय जवान जय किसान’ दिवस के रूप में मनाई जाएगी पूर्व पीएम की जयंती
हरनौत MLA फंड से भोभी में हाई स्कूल भवन के नाम पर बना लाखों का जर्जर भूत-बंगला
खुद के विकास में रोड़ा बने दो गुटों में बंटे इस गांव के लोग
नीतीश ने परिवारवाद का अब गढ़ा यूं नया आयाम
दहशत के बीच मामले की जांच करने हज़ारीबाग़ रोड रेलवे स्टेशन पहुंचे रेल DIG
नालंदा में NCC का दस दिवसीय प्रशिक्षण शिविर शुुरु
राष्ट्रीय लोक अदालत शिविर में निपटे 572 मामले, 2.5 करोड़ का समझौता, 37 लाख की वसूली
मंत्री ललन सिंह के गाँव में निर्माणाधीन जलमीनार ढहने के मामले में जेई समेत 8 पर एफआईआर
'आसरा होम स्कैंडल में संलिप्त हैं 5 बड़े रंगीन अफसर, वर्खास्त करें सीएम'
सिरफिरे शराबी ने नाम पूछा, गोली मारी, बोला- तुम्हे पाकिस्तान में रहना चाहिए
गोड्डा सिविल सर्जन करेगीं महगामा स्वास्थ्य केंद्र के इस डॉक्टर पर त्वरित कार्रवाई
आगंनबाड़ी आम सभा में पुलिस-पब्लिक मारपीट, रोड़ेबाजी, फायरिंग के बाद तनाव
नही मिला रसगुल्ला तो शरातियों को दौड़ा दौड़ा कर पीटा, नहीं हुई शादी
राजगीर एसडीओ ने अपनी चक्षु ज्ञान की कलई यूं खुद खोल ली
चिरुडीह गोलीकांड: हत्या की FIR के एक साल बाद भी नही हुई कार्रवाई
धान व्यवसायी के घर डाका, दो को किया घायल
अपनी हक हकूक की जंग लड़ेगी नवगठित 'हिलसा आंचलिक पत्रकार'

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...